LN अस्पताल के भवन निर्माण कार्य को लेकर निर्माण एजेंसी के द्वारा स्टॉक किया जा रहा घटिया सामग्री, उठा सवाल !

सुपौल/वीरपुर: राजीव कुमार

LN अस्पताल के भवन निर्माण कार्य को लेकर निर्माण एजेंसी के द्वारा स्टॉक किया जा रहा घटिया सामग्री, उठा सवाल !

बिहार/सुपौल: जिले के सीमावर्ती वीरपुर अनुमंडलीय अस्पताल के नव भवन निर्माण को लेकर जमा किये जा रहे घटिया निर्माण सामग्री को जमा करने को लेकर सवाल खड़े हो रहे है।
लगभग 15 करोड़ की लागत से बनने वाला वीरपुर अनुमंडलीय अस्पताल का कार्य शुरू कर दिया गया है, जहां पहले से बने अनुमंडल अस्पताल भवन को तोड़कर इसी स्थल पर नया भवन बनाया जाना है।


इसी स्थल पर निर्माण एजेंसी मैसर्स ललन कुमार भागलपुर की कंपनी के द्वारा नए भवन निर्माण के लिए घटिया सामग्री का स्टॉक किया जा रहा है। जहां लाल बालू के साथ लोकल उजला बालू को जेसीबी से मिक्स किया जा रहा था, साथ ही अन्य सामान का भी गुणवत्ता से खिलवाड़ किया जा रहा है।

सर्वदलीय संघर्ष समिति वीरपुर के अध्यक्ष मोहन प्रसाद रस्तोगी, उपाध्यक्ष रमेंद्र प्रसाद उर्फ बुची गुप्ता, सचिव श्रीलाल गोठिया, संयोजक प्रताप कुमार सिन्हा आदि के द्वारा रविवार को एलएन अस्पताल का निरीक्षण किया गया।

निरीक्षण के बाद उन्होंने बताए कि निर्माण एजेंसी के द्वारा भवन निर्माण कार्य में काफी अनियमितता बरती जा रहा है। साथ ही गिट्टी में भी थर्ड क्वालिटी का गिट्टी लाया गया है और जो सरिया डालना है वह भी टेस्टेड सरिया नहीं है, ऐसे में जिला पदाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी और स्वास्थ्य मंत्री से हम सभी मांग करते हैं कि निर्माण एजेंसी के विरुद्ध जांच कर कार्रवाई की जाए साथ ही बन रहे अस्पताल के देख-रेख को लेकर विभागीय स्तर पर एक कमेटी का गठन किया जाए। ताकि अस्पताल भवन निर्माण कार्य में अनदेखी या अनियमितता ना हो और भवन कार्य सही से हो सके।

उन्होंने बताए कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो हम लोग जिस तरह इस अस्पताल को अनुमंडल अस्पताल का दर्जा दिलाने को लेकर साल 2013 में 22 दिनों का धरना प्रदर्शन किया था और अनुमंडल अस्पताल का दर्जा दिलाया था।

उसी तरह उनलोगों का कहना था कि अगर इसमें भी सुधार नहीं हुआ या कार्रवाई नहीं हुआ तो हम लोग धरना प्रदर्शन करने को मजबूर होंगे ।

हालांकि निर्माण स्थल पर मौजूद जूनियर इंजीनियर राजीव रंजन से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि निर्माण के लिए यह बालू नहीं लाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!