सिमराही एनएच 57 और एनएच 106 के बीच कीचड़ का तालाब, पैदल पार करना नामुमकिन !

सुपौल/राघोपुर: विकास आनंद

 

सिमराही एनएच 57 और एनएच 106 के बीच कीचड़ का तालाब, पैदल पार करना नामुमकिन !

एनएच106 का निर्माण कार्य कब शुरु होता है और कब बन्द हो जाता है, ये किसी को भी नही मालूम !

 

बिहार/सुपौल: 05 जुलाई 2001 को वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे सांसद शरद यादव ने राष्ट्रीय राजमार्ग 106 का शिलान्यास मधेपुरा के वीपी मंडल चौक पर किया था। वर्तमान में एनएच 106 का अधिकतर सड़क सिंगल लेन है, वह भी उबड़-खाबड़। शिलान्यास के बाद अब तक पिछले 20वर्षों में विभागीय उदासीनता के कारण एनएच 106 का निर्माण कार्य नहीं हो पा रहा है। सिंगल लेन की सड़क होने के कारण वाहन चालकों को बड़ी फजीहत झेलनी पड़ती है। खासकर बरसात के दिनों में मुश्किलें बढ़ जाती है।

SS BROAZA HOSPITAL
SS BROAZA HOSPITAL
Sai-new-1024x576

 

सबसे बुरा हाल सुपौल जिले के सिमराही बाजार, पिपरा और करजाइन बाजार का है। सिमराही बाजार में जहाँ एक तरफ एन एच 57 से उतरकर लोग बीरपुर और नेपाल के लिए एनएच 106 पर मुड़ते है वही पर  एन एच 106 के मेन रोड पर ही करीब 500मीटर तक सिर्फ कीचड़ और जलजमाव का कष्टदायक दृश्य देखने को मिलता रहता है। यही वजह है कि इस एनएच 106 पर आये दिन दुर्घटनाएं होती रहती हैं।

तस्वीरों में साफ- साफ देखी जा सकती है कि हल्के बारिश में ही एनएच 57 से एनएच 106 मोड़ पर कीचड़ के तालाब में पैदल भी चलना मुश्किल हो जाता है। ज्ञात हो कि महज ही कुछ दिनों पहले एनएच 106 सड़क के कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा सड़क निर्माण कार्य शुरू किया गया था लेकिन सड़क निर्माण एनएच 57 के नजदीक आने पर कंस्ट्रक्शन कंपनी को रोक दिया गया है।

वही सिमराही स्टेट बैंक के नजदीक जहाँ सड़क को ऊचाई पर निर्माण किया जा चुका है वहां नाला निर्माण नही होने से बारिश का पानी सभी के घर और दुकान में घुस जा रहा है।

कहते हैं अधिकारी

आकाशवाणी न्यूज़ संवाददाता विकास आनन्द ने एनएच 106 के एस डी ओ जितेंद्र प्रसाद कामत से बातचीत कर एनएच 106 पर बना कीचड़ के तालाब पर प्रश्न किया तो एनएच के एसडीओ ने बताए कि पिछले दिनों से हो रहे लगातार बारिश के कारण निर्माण कार्य रुका हुआ है। इसी कारण सड़क पर कीचड़ बन गया है। भरोसा दिलाता हूँ कि अगर बारिश दो से तीन दिन भी रुक जाए तो सड़क की स्थिति को ठीक कर दुरुस्त कर दिया जाएगा और निर्माण भी पूरा कर दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!