मृत्यु पर जय प्राप्त करना ही है मृत्युंजय : आचार्य

gaurish mishra

सुपौल/करजाईन: गौरीश मिश्रा

 

मृत्यु पर जय प्राप्त करना ही है मृत्युंजय : आचार्य

बिहार/सुपौल: श्रावण मास भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है। ऐसे में धर्मशास्त्र एवं वैदिक ग्रंथों के अनुसार मृत्युंजय शिव की साधना उपासना एवं स्वरूप के बारे में अति रहस्यमय तत्व का ज्ञान जरुरी है। शास्त्रों में साफ-साफ लिखा गया है कि जिन्होंने मृत्यु पर जय प्राप्त किया है वही मृत्युंजय हैं। मृत्युंजय का स्वरूप जानने के लिए पहले मृत्युंजय और तत्व किसे कहते हैं यह जान लेना परम आवश्यक है।

सावन की पहली सोमवारी पर शिवभक्तों को मृत्युंजय तत्व का रहस्य बताते हुए आचार्य पंडित धर्मेंद्र नाथ मिश्र ने बताया कि मनुष्य की आयु समाप्त हो जाने पर शरीर जब आत्मा को परित्याग कर देती है और मानव शरीर जब चेतना विहीन जीवात्मा पुराने शरीर को त्याग कर नवीन शरीर धारण करती है एवं मानव शरीर से प्राण का अंत हो जाना मृत्यु कहलाता है। प्रत्येक प्राणी अपने-अपने जीवनकाल में किए गए कार्यों के अनुरूप ही अमृतत्व को प्राप्त करता है।

SS BROAZA HOSPITAL
SS BROAZA HOSPITAL
Sai-new-1024x576

साथ ही आचार्य श्री मिश्र ने शिव के ध्यान पर भी प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि त्र्यंबक शिव आठ भुजा से युक्त हैं उनके एक हाथ में अक्षय माला और दूसरे हाथ में मृग मुद्रा और दो हाथों से दो कलश मैं अमृतरस लेकर उससे अपने मस्तक को सिंचित करते हैं। दो हाथों से उन्हीं कलश को थामे हुए हैं। शेष दो हाथ उन्होंने अंक पर छोड़ रखे हैं और उनमें दो अमृत से पूर्ण घट हैं एवं श्वेत पदम कमल पर विराजमान हैं।

साथ ही मुकुट पर बाल चंद्रमा विराजमान है तथा ललाट पर त्रिनेत्र शोभामान हैं। इस प्रकार के विशिष्ट मृत्युंजय ध्यान स्वरूप के भाव को सदा ही प्रत्येक प्राणी को धारण करना चाहिए ऊपर जो दोनों प्रकार की अमृतवाणी कहीं गई है उन दोनों के भगवान शिव शंकर अधिकारी है। अर्थात शिव अपने भक्तों को प्रसन्न होकर यह दोनों वर दे सकते हैं। अमृत पुण्य दो कलश धारण करने का अर्थ यह है की भगवान शिव को कभी भी अमृत का कमी नहीं रहता है। दो अमृत कलश से अपने मस्तक पर सिंचन करने का रहस्य है कि मृत्युंजय शिव सदा ही अमृत में सरावोर रहते हैं।

अज्ञान युक्त देहादी प्रकृति के परावर्तन के साथ-साथ में भी परिवर्तन ही करता आ रहा हूं। इस प्रकार का ज्ञान ही अज्ञान है और अज्ञान मुक्त परिवर्तन का नाम ही मृत्यु है और इससे विपरीत ज्ञान ही अमृत तत्व है यही रहस्य वास्तविक में मृत्युंजय स्वरूप तथा मृत्युंजय तत्व है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!