मुख्यमंत्री के द्वारा शिलान्यास की गई सड़क का अब तक नहीं हुआ निर्माण !

gaurish mishra

 

 

 

 

सुपौल/करजाईन: गौरीश मिश्रा

मुख्यमंत्री के द्वारा शिलान्यास की गई सड़क का अब तक नहीं हुआ निर्माण !

बिहार/सुपौल: विकास के दौर में भी क्षेत्र की ग्रामीण सड़कों की तस्वीर कुछ ऐसी बदतर है कि राहगीर जान हथेली पर रखकर सफर करते हैं। हालत यह है कि महीनों पूर्व मुख्यमंत्री के द्वारा शिलान्यास की गई, सड़क का निर्माण कार्य अब तक की सुस्ती के चलते नहीं हो पाई है, जिसका टीस अब ग्रामीणों सताने लगी है।

साथ ही ऐसे में विकास के सारे दावे भी धरातल पर मात्र कोरे आश्वासन बन कर ही रह गए हैंराहगीर जोखिम भरी सड़क पर आवागमन को मजबूर हैं।

बायसी पंचायत में एनएच 106 से वार्ड नंबर-12 तारानंद यादव टोला होते हुए तीनटोलिया, मुस्लिम टोला तक सड़क निर्माण का शिलान्यास होने के बाद भी अब तक सड़क का निर्माण नहीं होने से लोगों को जर्जर एवं टूटी-फूटी सड़क से गुजरने की मजबूरी कायम है। सड़क की जर्जर स्थिति से लोग परेशान हैं। बरसात के दिनों में लोगों को जान जोखिम में डालकर इस सड़क से चलना पड़ता है। सड़क में जगह-जगह बने गड्ढे व उबड़-खाबड़ सड़क इसकी जर्जरता को खुद बयां करती है।

सड़क जर्जर होने के कारण दोपहिया व छोटे वाहन चालकों को तो भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसके चलते हादसे का डर भी बना रहता है। बरसात के दिनों में तो इस सड़क की हालत और भी नारकीय हो जाती है। जगह-जगह टूटी सड़क पूरी तरह कीचड़मय हो जाती है, जिससे होकर निकला राहगीरों को मुश्किल हो जाता है। अब तो हालत यह है कि भाड़े के वाहन भी इस मार्ग से जाने को कतराते हैं। इस सड़क से होकर लोग सफर करने में डरते हैं। पता नहीं कब हादसा हो जाए। इसका डर खलता रहता है।

स्थानीय मुखिया लाजवंती रूपम, वार्ड नंबर- 12 निवासी प्रो. शिवनंन्दन यादव, तारानंद यादव, बेचन यादव, विद्यानंद यादव, गणपति स्वर्णकार सहित अन्य ग्रामीणों ने बताया कि पथ प्रमंडल सुपौल के अंतर्गत स्वीकृत इस सड़क का शिलान्यास 22 सितंबर 2020 को ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा समाहरणालय सुपौल से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए किया गया था। लेकिन कई माह बीत जाने के बाद भी इस सड़क का निर्माण नहीं होने से हजारों की आबादी को सफर में खासी कठिनाई हो रही है।

ग्रामीणों ने अधिकारियों एवं क्षेत्रीय विधायक से अविलम्ब इस सड़क के निर्माण की मांग की है। ताकि राहगीरों को मुसीबत नहीं झेलने पड़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!