प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय में धूमधाम के साथ मनाया कृष्ण जन्मोत्सव !

 

abhishek kumar shingh

सुपौल/सिमराही: सुरेश कुमार सिंह

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय में धूमधाम के साथ मनाया कृष्ण जन्मोत्सव !

अद्भुत व विलक्षण जीवन था श्रीकृष्ण का: बबीता दिदी

बिहार/सुपौल: प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय सिमराही के तत्वाधान में स्थानीय ओम शांति केंद्र पर श्री कृष्णा जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में भव्य प्रवचन एवं श्री कृष्ण के चैतन्य झांकीयो को स्थानीय सेवा केंद्र प्रभारी बबीता दीदी , प्रखंड विकास पदाधिकारी विनीत कुमार सिन्हा , इंस्पेक्टर भूपेंद्र प्रसाद सिंह , डॉ अरविंद सिंह, समाजसेवी राम नगीना भगत, पैक्स अध्यक्ष कृष्ण कुमार राय, डॉ वीरेंद्र भाई , शशिभूषण चौधरी, शिक्षक सौरव जी, तेज़ नारायण भाई, ब्रह्माकुमार किशोर भाई इत्यादियो ने संगठित रूप में श्री कृष्ण को माखन खिलाकर, झूला, झूलाकर, दीप प्रज्वलित कर श्री कृष्णा के चैतन्य झाँकी को पूजा करके कार्यक्रम को शुभारम्भ किया।

SS BROAZA HOSPITAL
SS BROAZA HOSPITAL
Sai-new-1024x576

 

श्री कृष्णा जन्माष्टमी के आध्यात्मिक रहस्य बताते हुए सेवा केंद्र प्रभारी राजयोगिनी बबीता दीदी ने कहा कि श्री कृष्ण के नाम लेते ही उन्हें अपने सामने हाथों में अथवा होठों पर मुरली धारण किए हुए मोर, मुकुटधारी सांवरे रंग के एक दिव्य मूर्ति की झलक दिखाई देती है। हर एक माता अपने बच्चों को नैनो के तारा और दिल का दुलारा समझती है। परंतु फिर भी वह श्री कृष्ण को सुंदर ,मनमोहन, चितचोर आदि नामों से पुकारती है। वास्तव में श्री कृष्ण का सौंदर्य चित्र को चुरा ही लेता है ।

जन्माष्टमी के दिन जिस बच्चे को मोर, मुकुट बनाकर मुरली हाथ में देते हैं। लोगों का मन उस समय उस बच्चे के नाम, रूप , देश व काल को भूल कर कुछ क्षणों के लिए श्रीकृष्ण की ओर आकर्षित हो जाता है। सुंदरता तो आज भी बहुत लोगों के पाई जाती है परंतु श्री कृष्ण सर्वाग सुंदर थे, सर्वगुण संपन्न, 16 कला संपूर्ण थे। ऐसे अनुपम सौंदर्य तथा गुणों के कारण ही श्री कृष्ण की पत्थर की मूर्ति भी चितचोर बन जाती है। वह कृष्ण शब्द का अर्थ ही श्यामला अथवा सांवरिया मानते हैं ।मुरली तो वे कृष्ण के हाथों में शैशव अवस्था में ही दिखाते हैं ,जबकि वह अभी घुटनों के बल चलता होगा और अभी उसको बजाना भी नहीं आता होगा ,तब से ही दिखाते हैं। और इसी अर्थ में ही उसे मुरलीधर मानते हैं।

परंतु जब हम श्रीकृष्ण का नाम लेते हैं तो हम उसे एक अत्यंत सुंदर आकर्षण मूर्ति मोर ,मुकुटधारी के रूप में देख कर के गदगद होते हैं। क्योंकि श्रीकृष्ण को कहते ही है मुरली मनोहर क्योंकि उनका व्यक्तित्व हर एक के मन को हरने वाला है। अब प्रश्न उठता है की जबकि हर एक माता को अपना बच्चा अति प्यारा है, नैनो का तारा, दिल का दुलारा तो फिर वह श्री कृष्ण के दर्शन के लिए क्यों तरसती है। श्री कृष्ण में ऐसा क्या आकर्षण था कि वह लोग उसकी झांकियां बनाते हैं ।उसे पालको में झुलाते हैं, और उसे अनेक ऐसे नामों से पुकारते हैं ।जिससे कि श्री कृष्ण के प्रति उनका स्नेह अपनापन और आकर्षण सूचित होता है ।सभी जानते हैं कि आकर्षण या तो सौंदर्य में होता है या गुणों में। श्रीकृष्ण तो थे ही मोहनीमूर्त सुंदर नाम से उनका गायन भी है। परंतु संसार में सुंदर तो और लोग भी होते हैं, तब क्या श्री कृष्ण की सुंदरता निराली थी ?जी हां ,अवश्य ही उनका सुंदरता में कुछ विलक्षणता थी तभी तो उनका नाम ही सुंदर प्रसिद्ध हो गया ।

अतः श्री कृष्णका आह्वान करने के लिए पहले तो हम सभी को अपने आहार, व्यवहार और विचार में शुद्धिकरण की आवश्यकता है। सभी के हृदय रूपी सिंहासन पर किसी न किसी विकार का अधिकार जमा हुआ है तब एक नगर में दो राजा कैसे हो सकते हैं? आज लोग जन्माष्टमी का उत्सव मनाते हैं। तो बिजली के सैकड़ों बल्ब जलाकर खूब उजाला करने का यत्न करते हैं। परंतु आज आत्मा रूपी बल्व तो फ्यूज हो चुका है। बाहर तो रोशनी की जाती है परंतु आत्मा रूपी चिराग के नीचे अंधेरा है। तो आइए हम सभी मिलकर सच्ची जन्माष्टमी बनाएं श्री कृष्ण के समान सोलह कला संपन्न, संपूर्ण निर्विकारी ,मर्यादा पुरुषोत्तम व डबल अहिंसक स्वयं को बनाएं।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रखंड विकास पदाधिकारी विनीत कुमार सिन्हा जी ने अपने उदबोधन में कहा कि अपने अंदर के मनोबल और आत्मबल बढ़ाने के लिए श्री कृष्ण को मन ही मन श्रद्धा और शक्ति से याद करना जरूरी है ।उन्होंने कहा कि श्री कृष्ण की याद तब रह सकेगी जब हमारे कर्म ठीक हो। दूसरों की बुराई करने वाला ,परचिंतन ,परदर्शन करने वाला, बेईमानी, ठगी, चोरी करने वाला उस परम शक्ति श्री कृष्ण को या परमात्मा शिव को याद नहीं कर सकता है। ऐसा व्यक्ति और ही इस दुनिया के दुख-दर्द, पाप कर्म के कीचड़ में फंस जाता है।

उन्होंने पर निंदा, पर चिंतन, परपंच करने वाला को कौवे की उपमा देते हुए कहा कि वह हमेशा कौवे की तरह अवगुण रूपी गंदगी में अपना मुंह डालता है ।उन्होंने कहा कि पर चिंतन करने वालों की दृष्टि, बानी ,कर्म ,कौवे की भांति होंगे अर्थात दुखदाई होंगे।उन्होंने कहा कि हमें सत्संग की बातें सुनकर हंस के समान गुण रूपी मोती चुगने वाला बनना है। ऐसा हंस बुद्धि वाला ही प्रभु प्रिय, लोकप्रिय बन सकता है।

राघोपुर थाना के सब इंस्पेक्टर भूपेंद्र प्रताप सिंह ने अपने उदबोधन में कहा कि श्रीकृष्ण के सुंदर एवं मनमोहक झांकी को देखने के योग्य बनने के लिए अभी अपनी दृष्टि को दिव्य जन्म देना होगा। स्वयं को ज्ञान योग के चंदन का तिलक देना होगा। इस शुद्धि पुरुषार्थ को यदि हम करने की प्रेरणा इस बार की जन्माष्टमी से लेंगे तो निश्चित ही यह जन्माष्टमी हमारे लिए स्वर्गारोहण के लिए सोपान सिद्ध होगी। ऐसी शुभ पुरुषार्थ के लिए जन्माष्टमी का सभी को बहुत-बहुत बधाइयां।

उक्त कार्यक्रम का संचालन ब्रह्मा कुमार किशोर भाई ने किया। मौके पर , व्यवसाय राम नगीना भगत, शिक्षक सौरभ, मंजू देवी, मधु देवी , वीरेंद्र भाई, हरि भाई, रघुवीर भगत, भूपेंद्र कुमार सिंह ,डॉ वीरेंद्र भाई ,रविंद्र भाई ,शशि भूषण चौधरी, मंजू देवी ,सावित्री देवी, ब्रह्माकुमार बालकृष्ण भाई, सत्यनारायण भाई, संगम बहन, मुद्रिका बहन ,कविता बहन ,लकी बहन , किशोर भाई, इत्यादि सैकड़ों श्रद्धालु मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!